Happy Independence Day 2014

What is independence? Why celebrate independence? Such thoughts often come in mind specially on independence day. Lets consider the following –

Suppose you are not allowed to take your own decisions
Suppose, you are forced to do certain things
Suppose, you are forced not to do certain things
Suppose, you are not allowed to make your choices
Suppose, you are treated like slaves

Can one grow as a human being in such a circumstances? Can one develop morality and conscience in such a scenario? Can one reach one’s pinnacle in such circumstances… and can the overall society develop and progress in such circumstances.

And the answer is certainly – NO

This is the importance of Independence. Independence is about living the life in our own way, on our own teems. Independence is about breathing in fresh air, without worrying that someone might scold you for this. Independence is sleeping with peace in night without worrying that someone might hurt you, when you are asleep. Independence allows us to dream big and follow our dreams.

Nothing is more precious than independence and liberty.

And lets not forget, this independence has not come to us for free. Thousands of our freedom fighters have sacrificed their lives to ensure that their children and next generations live in an environment of peace, progress and prosperity. It is the time to sit back and pay tribute to these freedom fighters.

Although, India has achieved independence but still the country is grappling with many problems – like corruption, poverty and crime. It is the duty of each of us to fight with the problems faced by our country and make the country a better place to live. Lets decide that we will not let go this independence in waste. Lets decide that we will make our small contributions to make our country the best place in world.

The beautiful poem by Ram Prasad Bismil summarizes the emotion and feeling of patriotism inside us –

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है
(ऐ वतन,) करता नहीं क्यूँ दूसरा कुछ बातचीत,
देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफ़िल में है
ऐ शहीद-ए-मुल्क-ओ-मिल्लत, मैं तेरे ऊपर निसार,
अब तेरी हिम्मत का चरचः ग़ैर की महफ़िल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

वक़्त आने पर बता देंगे तुझे, ए आसमान,
हम अभी से क्या बताएँ क्या हमारे दिल में है
खेँच कर लाई है सब को क़त्ल होने की उमीद,
आशिक़ोँ का आज जमघट कूचः-ए-क़ातिल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

है लिए हथियार दुशमन ताक में बैठा उधर,
और हम तय्यार हैं सीना लिये अपना इधर.
ख़ून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हाथ, जिन में हो जुनून, कटते नही तलवार से,
सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से.
और भड़केगा जो शोलः सा हमारे दिल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हम तो घर से ही थे निकले बाँधकर सर पर कफ़न,
जाँ हथेली पर लिये लो बढ चले हैं ये कदम.
जिन्दगी तो अपनी मॆहमाँ मौत की महफ़िल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

यूँ खड़ा मक़्तल में क़ातिल कह रहा है बार-बार,
क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है?
दिल में तूफ़ानों की टोली और नसों में इन्क़िलाब,
होश दुश्मन के उड़ा देंगे हमें रोको न आज.
दूर रह पाए जो हमसे दम कहाँ मंज़िल में है,
जिस्म भी क्या जिस्म है जिसमें न हो ख़ून-ए-जुनून
क्या लढ़े तूफ़ान से जो कश्ती-ए-साहिल में है

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है

Happy Independence Day everyone!